A Known Stranger

‘Love’, I don’t know how to say anything about it. But yes, it’s something, from which no one can make himself isolated. It’s a deadly virus which kills you to lead you towards life at its fullest. Towards the life which can be lived at its fullest possible that too within a friction of second or may be even lesser than that, yet complete like a lifetime.

The night was full of stress and memories, I was kind of lost in the forest of my own grown thoughts and trying to find a way out, and in the process of finding a way out of that forest, I was losing myself into the loop of never ending thoughts.

It was 1:30 in night, cold soothing breeze was playing childish with my hair, I was sitting on a chair in the balcony, gazing the moon, lost in the music, holding all the broken pieces of my existence and trying to add them at their right places but it was like, a lost part of that existence was yet to find out. After a lot more thoughts, and a hangover of music and finding myself unable to focus on studies I decided to talk.To Talk to a stranger, being strange. This quest was a bit mysterious to me. What was I exactly searching for? What was there making me restless? What was that which was making me connect to a complete stranger? How  were  we connecting with each other even being totally anonymous? Was it a nice coincidence? how two people sitting far away from each other connected with each other at the same time on the same platform and with the same intention..?

Intension, yes, what was the intention? Nothing, just an escape route from the serenity present all around. Or may be a quest of finding something unknown yet known — yet unknown.

May be a quest to find something which can touch you from the bottom of the heart yet leave you untouched. Something vast like a mountain and something mysterious like an ocean.

Whatever it was, the one word was enough to explain that, i.e. ‘Beautiful’.

Last night has changed my entire perspective about love, life and getting connected with someone. With the silence filled in my breath and restlessness in my mind, I hit that connect button on the website, and I found him again..

Yes, again, with a different name yet the same traits — no vulgarity, no creepiness, unknown to each other, yet it was like we have been friends for a long time.

With a certain grace and dignity in words, he asked some formal questions like who are you, what you do and hobbies etc. With him these simple questions become a matter of surprise and means of knowing oneself beyond the words presented on the plate. I was amazed at how he was able to guess me so accurately!

It’s really very true that sometimes the people around you make you feel extraordinarily beautiful. You can take it as a compliment or a weakness, it’s totally up to you. After an hour long peaceful talk, it was time for a hesitant good-bye! I wanted to close the discussion. My heart, filled with the notion that “somewhere I know him!”

How can these many things can be same in two different person, the same old crush of coffee, the same classical music match of harmonium with anklet bells, the same old curiosity towards new discoveries, the same old desire of knowing more about each other, the same old learning how to deal with failed plans and how to reorganize oneself. And the same question in my heart — “Do I really know him!”

But this time I was not searching for the answers of my questions, these questions itself were enough to make me feel joyful. What would I really do with the answers! This time, I was not curious about his presence; but there was a strange satisfaction that “though for a fraction of second, but we are connected somewhere.” and there was no demand for tomorrow, no fear of losing him apart, again, as well as no urge to possess him for lifetime.

A sweet, short, simple yet perfect connection. A perfect relation with ‘no relation’ at all.

How lovely it is to be in love and yet unknown towards love!
How peaceful it is to demand no favors in return!
Hoping for a long lasting togetherness and fully convinced that, hope is just a myth and it will shatter in the next fraction of second.
How awesome it is that somehow all your worries have been taken away and you are now free from all the mists, like you found a path towards the city from the jungle.

In a short connect of one or two hours, we did not really know each other yet we exactly know ‘that’ which we must know i.e. “It’s something awesome!”

After a very long time, I had a peaceful and heartfelt exchange of words with someone. But as we know that every start has to come to an end, this conversation also reached its limit, or rather I must say, I dragged it to an end. No one was willing to go yet. But we both agreed to close the doors of endless talks, cause that was the only right thing to do at that moment. And this way, two strangers remained strangers yet not really unknown to each other.

After closing the talks, I read the exchanged messages twice, searching the moment I lived just a second ago. After a deep breath I switched off the laptop, sitting quietly on the same chair laying on the balcony. The breeze was colder than before. The moon was shifting towards the west and the brightness of the night was getting deeper. With the calming effects of the talks and with the notion filled in the heart that we have surely met before, I came back inside the room, hugging my pillow to the heart. I was trying my best to let the sleep take over my consciousness, but those hard hitting words.. I simply could not resist myself to think about the words we exchanged a while back.

“I started missing you even in this current moment”, this is what he said, when we were about to bid adieu. that .0001% of possibility of crossing the path again, his response – “Same” to our shared interests, the same inclination towards coincidences. The same musical story, his fluent Hindi and unknown decagon, the same way of writing achcha with repeated ‘ch‘, and the same last question — “Mountain or sea”, with a disclaimer that “please don’t take it otherwise, I am asking this just to know your personality.”

All of these things are similar, yet wrapped in a different identity like sky and ocean, sharing the same vastness, same depth yet dimensionally different from each other.

Was it a coincidence? Or maybe I am overly thinking? I don’t know what I want to know, but I know only one thing, “it was awesome at that moment”. I know, it won’t last for long but that fraction of a second was enough to be with someone without any expectations. Yeah! It hurts but at the end it means to be like this only.

And in this way, I can live my entire life loving that sleepless night, that cold breeze, that fragrance of moulsari flowers and that known stranger with his hopeless good bye 🙂

I hope these words reaches to him 

Hey Stranger!
Thankyou for taking me away from my problems for a while!
Thankyou for sharing your valuable time with me!
Thankyou for giving me a new perspective towards life!
Thankyou for obliging me for this short, sweet and simple story which is full of love, respect and dignity!
and.. simply thank you.. 
🙂

भरोसा,
किया है कभी?

किसी अजनबी पर?
किसी अपने पर?
किसी मसीहा, किसी ईश्वर पर?

मैंने किया था;

सहमी हुई नब्जों के साथ भी,
मद्धम पड़े धड़कन के बाद भी,
मन की बेचैनी के हाथ भी,
मैने किया था,
‘भरोसा’।

तुम्हारी गंदी निगाहों पर,
तुम्हारे नापाक इरादों पर,
तुम्हारे बाहों की ताकत पर,
तुम्हारे दिमाग की साज़िश पर,
मैने किया था- भरोसा।

जानते हो क्यों?
क्योंकि भरोसा, सिर्फ शब्द नहीं;
वो आवाज़ है मेरी,
जो तुम्हें
तब तक पुकारेगी
जब तक, तुम्हारे निगाहों की गन्दगी
आखों के कोने से बह न जाए,
तुम्हारे नापाक इरादे
शर्म से तुममें ही कहीं मर न जाएं।

जब तक तुम्हारी ताकत,
तुम्हारे बाहों से सरक कर
हृदय की कोमलता को पा न पाए।

जब तक तुम्हारे मस्तिष्क की हर शाजिश
खुद तुम्हारा असली चेहरा
तुम्हें दिखा न जाएं।

तब तक,
मैं भरोसा करूंगी…
तुम्हारे इरादों की नीचता पर,
तुम्हारे हवसी मानसिकता पर,
तुम्हारी नज़रों की बर्बरता पर,

रेप कर के मार डालने की कायरता पर।

बच सको
तो बच लो
अपनी कायरता से
अपनी मानसिकता से
मर्द कहे जाने के दर्द से।

ज़रा मुश्किल है ना? 🙂

रेप से रेप तक

निर्भया नहीं,
एक डर हूं।

जिसे तुमने गटर में फेंका था।
जिसे तुमने घरों में
बंद दरवाजों के पीछे निपटाया था।

जिसे हर रोज़
बिस्तर पर सहला कर
चेहरे की दमक
आखों की चमक चुराया था।

हर रोज़ पोर्न के नाम जिसे
शाम ढले नज़रों पर
चश्मों सा सजाया था।

मैं निर्भया नहीं,
वो डर हूं।

जो आज भी,
हर लड़की में जिंदा हूं।
जो आज भी,
सड़कों पर,
हर शाम उठाई जाती हूं।
जो आज भी तुम्हारी मर्जी से
घर की दहलीज में बाधित हूं।

कभी बाप बन कर तुमने बेड़ियां पहनाई
समाज बुरा है कह-कह कर चादरें ओढ़ाई।

पर कभी बताया ही नहीं तुमने
इस देहलीज के बाहर की लड़कियां,
तुम्हारी क्या लगती हैं?
आंखें तुम्हारी उन्हें क्या कहती हैं?

सच सच बताना,
तुमने मुझे नाज़ों से पाल कर,
दुनिया से लड़ना सिखाया;
या शादी तक साफ बच पाऊं
सो घर में चुनवाया?

क्या हुआ जो मेरा रेप हुआ?
मेरी इज्जत को तुमने क्यों
जननांगों में ही छिपाया?

क्या हुआ जो मैंने तुम्हारी तरह,
दुनियां को जान पाने में अपना बहुत कुछ गवाया?

पापा,
सच बताओ,
क्या मेरे चरित्र का निर्धारण
सिर्फ मेरे टांगों ने करवाया?

फिर दया प्रेम की दीक्षा क्यों दी?
स्वतंत्रता की इच्छा क्यों दी!
भगत सिंह के पाठ पढ़ा कर
जीवन की अभिव्यक्ति क्यों दी?

पापा,
क्या मेरे होने में,
तुम्हारा इतना भी अंश नहीं,
कि मैं तुम्हारी वाली गलतियां कर जाऊं?
तुम्हारी वाली चोटें खा कर
दुनियां को देखने का नजरिया पाऊं?

अगर हां,
तो मुझे जीने दो,
मेरे नासमझ तरीकों से,
और मुझे समझ दो,
अपनी हर बात
तुमसे कह पाने की।

अगर ना,

तो मुझे अपने इर्द-गिर्द नाचती
एक जिंदा लाश ही जानो।

जो नहीं जानती जीना क्या
जो नहीं जानती होना क्या।

वो चेहरे पर हंसी चिपकाए खुश है,
आज तुम्हारे साए में;
कल, किसी की बाहों में।

रेप?
वो तो प्रतिपल का फ़साना है,
कभी इस रूप में,
तो कभी उस रूप में।

**************************
**************************
मुश्किल ये नहीं है कि दुनिया खराब है। मुश्किल ये है कि हमारे भलाई की चाह रखने वाले मां बाप हमें दुनिया से बचाते-बचाते ये भूल जाते है कि जीना तो इसी दुनिया में है और ये समझ देने में नाकामयाब हो जाते हैं कि दुनिया चीज क्या है ,यहां जिये कैसे।

लड़कियों की आंखों का डर अपराधियों को कुछ भी कर जाने की ताकत देता है। पर हमें उसी डर को ओढ़ना सिखाया जाता है और वो भी ये कह कर कि इसमें हमारा भला है। डर में जीते जाने से भला हो की सड़क पर रेप कर मार डाला जाए ऐसे भी एक तरह की मौत ही है वैसे भी एक तरह की मौत है। पर लड़कियां अक्सर पहले वाले मौत को ही चुनती हैं, उसमें जिंदा होने का भरम हो होता है।

और जो माता-पिता, संस्कारों के कसीदे कसते नहीं थकते, वो ये नहीं समझ पाते हैं कि ये लड़के पैदा किसने किए, जो रेप करते हैं, जो नज़रों से दिन-रात ना जाने कितने कपड़े उतारते हैं? हम लड़कियां किसकी ताकत का नमूना हैं जो लोगो और परिस्थितियों को समझ पाने में बार-बार चूक जाती हैं? धन्य है भारत का हर परिवार धन्य है हर परिवारों के संस्कार धन्य है उन संस्कारों के ठेकेदार और धन्य है ये सारे औलाद सारे मां बाप। इन्हें मेरा सत-सत नमन। और अगर इनमें कहीं मेरे मां-बाप हैं और मैं हूं तो ये धन्यवाद मेरे अस्तित्व को भी ज्ञापित हो।

Heat is Intensifying

In the mid night
When moon was red than white
Wind was hotter than fire
Star was melting into dust
someone said a loud…
“Heat is Intensifying”

When river was stil than flowing
Sun was splashing his glowry
eyes were closed
but looked like a brewry
someone sitting apart
said aloud…
“Heat is Intensifying”

season was spring
and nights were chilled
valley was covered with snowy hills
colder yet burning from inside
someone said aloud
“Heat is Intensifying”

with the melting moon
with the falling snow
in the soothing night
with the burning lamp
one thing all around
i.e.
“Heat is Intensifying”

जिन्दा मुर्दे

घड़ी की सुइयाँ रात के बारह बजा रही थीं। मन कुछ बेचैन, कुछ शांत सा था। आपको लगेगा मैं यूँ ही कुछ बोल रही हूँ। पर सच में अन्तस में एक गहरी शांति और आँखों में एक अजीब सी बेचैनी है। सवाल बार-बार जैसे मन से टकरा कर बिना जवाब लिए ही वापिस चला जा रहा हो। जैसे बहुत सारे शब्दों से परेशान सा हो चूका हो।

आपको शायद लगे कि ये लेख बहुत उबाऊ और निराशावादी है। पर जब आशा का अर्थ बस इतना सा रह जाए कि आँख बंद कर लो और सोचो कि सब ठीक हो जाएगा और इसे तब तक जपते रहो जब तक बर्बाद होने की बारी तुम्हारी न हो। तो मैं समझती हूँ निराशावादी होना कहीं ज्यादा यथार्थवादी होगा। और जिन्हे लगता है कि यथार्थवादी होना इंसान को भयभीत और निक्कमा बना देती है तो ये बात बिलकुल बेबुनियाद है। यथोचित कर्म स्थिति के ठीक ठीक आंकलन से ही संभव होता है। और स्थिति का ठीक ठीक आँकलन तब तक सम्भव नहीं है जब तक हम नकारात्मकता के डर से सकारात्मकता का लबादा ओढ़े बैठे हों।

दुनिया अपने ही बोए के फल से परेशान है। हर ओर कोहराम और चीख पुकार है। मैं घर की चार दीवारी में खुद को छिपाए हुए बैठी हूँ। सब कुछ अजीब सा है, हाँ, उस पल से भी ज्यादा अजीब जब आज से ठीक एक साल पहले दुनिया की रफ़्तार थम गई थी। भारत का दिल कहे जाने वाली दिल्ली की धड़कन को एक माइनर हार्ट अटैक सा आया हो मानो। जिसने पूरे एक साल के लिए धड़कना बंद कर दिया था। फिर भी एक संतोष था कि इस कोहराम में कोई चींख अपने जान-पहचान की या आस-पास वाले की नहीं है।

आज हर तीसरे परिचित का कोई सगा, या वो खुद, या तो इस महामारी की मार झेल रहा है या अब हमारे बीच से हमेशा-हमेशा के लिए जा चुका है। एक नजरिये से देखने पर लगता है कि इस जीवन में कुछ भी अनुमानित या तयशुदा नहीं है। दूसरे छोर से देख कर समझ आता है कि सब कुछ हमने तय ही तो कर रखा था। इसमें इतना भी क्या आश्चर्य।

बात सिर्फ इतनी होती कि दुनिया को एक बीमारी ने त्रस्त कर रखा है तो हम उसे ठीक भी कर लेते। पर जब दुनिया को लालच और हवस के वायरस ने अपने चपेट में लिया हो तो उसका क्या कर सकते हैं? इसी बता पर अमूमन एक किस्सा याद आया।

उस वक्त मैं बहुत छोटी थी। लगभग १० साल की। दादा जी की तनखाह यही कुछ तीन-चार हज़ार रूपए हुआ करती होगी। पर ऊपर की कमाई मिला कर छः सात हज़ार जोड़ लेते थें दादा जी। उस वक्त उनकी माइंस में एक शराबी काम करता था। उनका अक्सर हाज़री लगाने के चक्कर में आना जाना लगा रहता था। दरअसल मेरे दादा जी सबकी हाज़िरी लेने का काम करते थें और सबकी तनखाह भी वही बाँटते थें। उस वक्त तनखाह कैश में दी जाती थी।

दादा जी, किसी बीमार, किसी की बेटी की शादी, किसी का कोई और काम ये सब समझ कर उनकी हाज़िरी लगा दिया करते थें, बदले में उनसे तनखाह के पैसे में से कुछ पैसे काट लेते थें। और वो पैसे दादा जी और उनके साथियों के घर आया करता था। दादा जी इस काम को हमसे कभी बताते तो नहीं थें पर उन शराबी कर्मचारी के हाज़िरी लगाने के लिए गिड़गिड़ाने की भनक हमें लग ही जाती थी। बड़े होकर खुद ब खुद समझ आने लगा कि ये पूरा माज़रा क्या था।

बड़े दिनों बाद आज दादा जी से अमूमन पूछने का मन किया कि आपके दादा और पिता जी तो भगत सिंह, राज गुरु, सुखदेव, सुभाष चंद्र बोस और गाँधी जी जैसे आदर्श लोगों से प्रेरणा लेकर अपने जीवन का मार्गदर्शन किया करते होंगे न, और जहाँ तक मैं समझती हूँ कि उस सदी के महान नायकों में लालच, चोरी, मक्कारी जैसे गुण तो नहीं ही होंगे। फिर आपने ये सब कैसे सीखा?

उन्होंने कोई उत्तर न दिया। फिर यकायक मैंने उनसे दूसरा सवाल पूछ लिया — “आपकी पीढ़ी ने हमारी पीढ़ी को तोहफे में क्या दिया है? आचरण और अंतस की कौन सी सीख को मैं आपकी पीढ़ी से आत्मसात करके अपने जीवन के रस्ते पर नए कदम रखूँ?”

कुछ देर चुप रहने के बाद उन्होंने कहा — “चलो हो गया। खाने में क्या बनाया?”

मैंने उनको उत्तर देने की अपेक्षा मौन होकर फोन काटना बेहतर समझा। अगर आपके पास मेरे इस सवाल का जवाब हो तो मुझे लिखिएगा जरूर।

आप सोच रहे होंगे कि अचानक महामारी की बात में मुझे अपने दादा जी की बात कैसे याद आ गई। क्योंकि आज हमें सिर्फ महामारी ने नहीं बल्कि हमारी आतंरिक मक्कारी ने ज्यादा मार रखा है।

जिस दिन अब्दाली, अफ़गानी और ब्रिटिश इस देश में दाखिल हुए थें उस दिन बस हम नहीं बिके थें बल्कि नमकहरामी के नंगेपन को हमारे शीर्ष के मार्गदर्शकों ने सदा सदा के लिए हमारे खून में बो दिया था। जिसे हज़ारों स्वतंत्रता सेनानी अपने रक्त से भी न मिटा पाएँ।

पेट की आग ने हज़ारों की भीड़ में बक्शा तो सिर्फ एक मंगल पांडे को। हमने आदर्श तो मंगल पांडे को बना लिया पर हमारी धमनियों में रक्त तो बाकि बचे नौ सौ निन्यानवे सैनिको का ही है जो मंगल पांडे की मौत के बाद भी लाचारी का रोना रोते रहे और अंग्रेजों के छोड़े बसी टुकड़ों पर पलते रहे।

आज अमूमन दो तरह के मुर्दे घूम रहे हैं, एक वे जिनकी धड़कनों ने उनका साथ छोड़ दिया है। दूसरे वे जिनकी धड़कने धड़क तो रही हैं पर अपने धड़कने का एहसास कराना बंद कर चुकी हैं। आज वो नौ सौ निन्यानवे पूर्वजों का खून रंग ला रहा है। भगत सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए वो हाथ जब सौ की दवाई दस हज़ार में बेच रहे होते हैं तो वाकई उनके पास क्या तर्क होता है? क्या उनके मन में भी वही तर्क उठा होगा जो तर्क भगत सिंह के पार्थिव शरीर के टुकड़े कर उन्हें बोरे में भर कर कारागृह की दीवार तोड़ कर भोर के सन्नाटे में सतलुज के घाट पर अधजला छोड़ कर भागने वाले ब्रिटिश सरकार के भारतीय सैनिकों के मन में उठा था?

उस अस्पताल के कर्ता धर्ताओं का तर्क क्या होता होगा जिनके बिलिंग काउंटर की पंक्ति में एक महिला अपना घरबार बेच कर भी इतने पैसे न जुटा पाई हो कि उसके मृतक पती का शरीर उसको मिल जाए। इस औरत को काउंटर पर दूसरी तरफ बैठा इंसान किस मुँह से कहता होगा कि “अभी इसमें सात लाख कम हैं। बिना इस सात लाख के हम आपको आपके पती को ले जाने नहीं दे सकते।”

सरकारी अस्पतालों में आए उस बूढ़े दादा की बेबस नजरों को वो डॉक्टर कैसे जवाब देता होगा जो आज फिर लेट आया क्योंकि वो अपने घर पर खोले उसके क्लिनिक में वही इलाज हज़ार रूपए के फीस पर कर रहा था। और वो बूढ़े दादा सिर्फ इसलिए दम तोड़ गए क्योंकि इमर्जेंसी में कोई डॉक्टर उपलब्ध नहीं था।

अम्मा के इलाज के लिए समीर अपने बचत खाते में जमा दस हज़ार लेकर आ रहा था तभी उसका मास्क ज़रा नाक के नीचे हो गया और पुलिस ने वो दस हज़ार फाइन के नाम पर उससे ले लिए। किस मुँह से ये लोग अपने बच्चों से मिलते होंगे?

देश के कोने-कोने में कोहराम है पर रात नौ बजे आने वाला प्राइम टाइम एंकर दबे आवाज में तथ्यों पर लीपा-पोती करने के अथक प्रयास में है। ये लोग क्या तर्क देते होंगे खुद को? कैसे आईने में खुद की शक्ल देखते होंगे?

ऑक्सीजन के एक सिलेंडर की कीमत जो पच्चास हज़ार तय कर रहे हैं वो उन लाशों के सवालों से कैसे दो चार होते होंगे, जो उनसे मर कर भी पूछती हैं कि इस पैसे की रोटी किसको खिलाओगे?

पाँच सौ किलोमीटर का किराया सत्तर हज़ार बताने वाले एम्बुलेंस चालक ने कैसे उन डबडबाई उजड़ी हुई आँखों का सामना किया होगा जिनको अपने मृतक परिजनों को घर तक ले जाना होगा बस पर हॉस्पिटल से निकलते वक्त उनकी जेबें खली थीं इसलिए वो अब किसी और का मुँह ताक रहे हैं।

इस व्यवस्था के सौदागरों ने कैसे शमशान घर की चिताओं पर सिकी रोटियों का निवाला अपने हलक से नीचे लिया होगा?

यह सब लिखते हुए मुझे ऐसा लग रहा है मानो मेरे हाथ उनके खून से सने हैं, मेरे कान उन अनजान चीत्कारों से गूंज रहे हैं और मेरा सिर बस फटने को है। अमूमन महामारी पर लिखने से मैं बचती रही थी। क्योंकि सारी बेचैनियों के बाद भी मन को सुकून था कि कम से कम जीव जगत और पर्यावरण इसकी वजह से लाभान्वित हो रहा है।

पर आज सोच कर लगा, हम कितने दिनों तक इस पर्यावरण इस जीव जगत की शांति का जश्न मना सकते हैं। जब इंसान अपने ही जैसे दूसरे इंसान का सगा नहीं तो ये अपेक्षा कुछ ज्यादा नहीं है कि इंसान पर्यावरण की रक्षा कर लेगा?

पहले तो लगा कि अपने दादा और उनकी पीढ़ी को ही इसका ज़िम्मेदार ठहरा दूँ और बात को रफा दफा करूँ। फिर सुझा, ज़मीर के नाम पर हमारे पास भी कुछ तो चेतना शेष होगी। कुछ तो होगा हममे जिसको इस सड़ाँध की बदबू महसूस होती होगी। कुछ तो होगा न जो गलत को देख कर मुँह फेरने के बजाय सच से आँखे मिलाने का बूता रखता होगा?

पर फिर लगा, ज़मीर को तो मरे एक अरसा हो गया। फिर ये घटनाएँ क्यों कचोट रही हैं? ये सब कुछ, कब से तय ही तो कर रखा था। जब आर्कटिक की बर्फ पिघल रही थी, जब ओज़ोन में छेद हो रहा था, जब ब्राजील और अमेज़न के जंगल जलाए जा रहे थें। और हम पार्टियों में जानवरों का माँस चबा रहे थें।

जब शेर मर रहे थें, जंगल जल रहे थें, तब हमारी आँखो में उन मासूम पेड़ों, पक्षियों, कीट-मकोड़ों, जानवरों के लिए दर्द और नमी नहीं बल्कि एक सहज ही असंवेदनशीलता थी। चेहरे पर एक दानवी हँसी और आँखों में मक्कारी। फिर क्यों भला ये आँखें आज इंसानी लाशों की लम्बी कतारों से विचलित हो? शमशान में लाश जलाने वाला क्यों न इस बात की ख़ुशी मनाए की जहाँ पहले दिन में एक दो लाशें आती थीं और हर लाश के पीछे पाँच सौ मिलते थें वहीँ अब रोज के पच्चास-साठ लाशें आ रही हैं और कमाई आसमान छू रही है?

एक गाय शरेआम ऊँची-ऊँची इमारतों के बीच बने पार्क में खूँटे से बाँध कर सांड से जबरदस्ती रेप कराइ जाती है और चिल्लाती गाय की आवाज, उसकी आँखों के आँसू, लोगों के लिए शर्म नहीं बल्कि मनोरंजन का सबब बन जाता है। ये तमाशा लोग अपनी बालकनी से अपने बच्चों के साथ बैठे देख रहे होते हैं। और हमारी संवेदनहीन आँखों को ये सब सामान्य सा लगता है। सूखते तालाब, कूएँ, बिजली के तारों पर मरी चिड़िया। पतंग के लड़ी से फंस कर मरा कबूतर। घर की छत से मार कर भगाया हुआ बंदर जिसकी हाथ आपकी लाठी से टूट गई थी और आपको फर्क नहीं पड़ा था। इनके दर्द जब आपको झकझोर नहीं पाए तो फिर भला ये आश्चर्य क्यों है कि किसी के लिए ये महामारी आपदा हो तो हो पर बहुतों के लिए ये एक अचूक अवसर है जो सालों में कभी कभी आता है?

जड़ों में जब कीड़े लग जाए तो पेड़ ज्यादा दिन जी नहीं सकता। पर इसका मतलब ये नहीं है कि अब कोई चारा न बचा हो। थोड़ा कोड़ लगाइये, आइये कुछ दवाइयाँ डालें ताकि पेड़ फिर से जी सके। पता है समय कम है। पत्ते पीले पड़ गए हैं और कुछ टहनियाँ भी सूखने लगी हैं पर प्राण अब भी शेष है। अंतिम स्वांस तक भी जी कर मरने की सम्भावना शेष ही रहती है। जरुरत है तो बस आँखें खोल कर उस सम्भावना को आदर सहित अपने अंतस में पुनः स्थापित करने की।

मुर्दों को आज हमने
बोलते, चलते देखा।
मरे हुए की मौत पर
मुर्दों को शर्मिंदा देखा।

भला बताओ ऐ मुक़द्दर,
हम क्या ही दोष दें उनको,
जिनको सरेआम
खुद के क़त्लेआम पर
मचलते देखा।

चिताओं की आग तो
जलकर ठंढी हो जाएगी।
अपनों के ज़ख्मों को,
कब्रों की मिट्टी
दबा जाएगी।

पर उस चिता की आग
भला कैसे ठंढी हो,
जिसकी चिंगारी
तुमने खुद अपने हाथों
अपने ज़मीर में सुलगाई थी?

एक लौ जिसकी
कहीं से उड़ कर
मुझ पर भी मंडराई थी।

~ अनजान कलम

चुनचुन की विज्ञान यात्रा

क्षितिज से चढ़ते सूरज को कभी देखा है? एक असीम सौम्यता और शांति का समागम होता है। फिर धीरे-धीरे किरणें प्रखर होती जाती हैं और शांति उष्णता से पनपी बेचैनी में कहीं खोने लगती है। मखमली किरणों की चादर वाला सूरज बदन पर खरोंचे मारने वाला जूना सा जान पड़ने लगता है। पर जैसे न वो शांति स्थिर थी, वैसे ही ये जलन भी स्थिर नहीं रह पाई और साँझ दस्तक देने लग गई।

साँझ, जो सुबह वाली मखमली अहसास लिए पुनः धूप के चिलचिले जख्मों पर मरहम लगाने आती है। ठीक वैसे ही हम भी जीते हैं। हमारी जिंदगी भी कुछ ऐसी ही है। अभी पूरी बातें समझी भी नहीं और बात बदल जाती है। बता उन दिनों की है जब दिल्ली दूर हुआ करता था। और विज्ञान के नाम पर एक पत्रिका और चंद कक्षा की किताबें ही हुआ करती थीं पास में।

समझाने वाले आए और गए पर जब तक बात समझ आती, तब तक धूप की तरह बातें ही बदल जातीं। और फिर एक नए बात का झुनझुना चलने लग जाता।

आगे जो मैं बात रखने जा रही हूँ इससे कुछ परिश्रमी लोगों को शायद ठेस भी पहुँचे पर बात तथ्यात्मक है तो कहनी तो पड़ेगी ही। चुनचुन पिछले साल नवीं कक्षा में थी। उसके पिता ने उसको आठवीं तक के विद्यालय से स्थानांतरित कर के नवीं में एक नए विद्यालय में दाखिल करा दिया था। विद्यालय यूँ तो ठीक ठाक था। पर उन्नत और योग्य प्राचार्य व शिक्षकगणों के नेतृत्व के बावजूद भी कुछ खास बदलाव नहीं ला पाया समाज में।

विद्यालय से चुनचुन को एक वैज्ञानिक गतिविधि में भाग लेने का मौका मिला। जी, ठीक सुना आपने, बाल वैज्ञानिक गतिविधि। हाँ, ये और बात है कि चुनचुन को विज्ञान के नाम पर बस न्यूटन के तीन नियम ही रटे थें। बहरहाल शिक्षक जी ने चुनचुन को विगत वर्षों में चलने वाली किताब के हवाले से एक नायाब आविष्कार रटाया। और चुनचुन ने ठीक वैसे ही उस आविष्कार को रट लिया। जिला स्तर पर विज्ञान प्रतियोगिता वास्तव में बेहतरीन कला प्रतियोगिता हुआ करती थी तब। अब का मुझे कुछ ख़ास न तो पता है न उम्मीद है बेहतरी की। जिसका नमूना जितना रंगबिरंगा और सुंदर होता उसके आगे जाने के मौके उतने आसान होते जाते। और यदि विद्यार्थी कला के साथ-साथ बोलने में भी पारंगत है तो फिर तो क्या ही कहना।

हमारी चुनचुन दोनों में ही पारंगत थी। शिक्षक का पढ़ाया ठीक-ठीक समझ भी लेती और उसे ज्यों का त्यों सभा में प्रस्तुत भी कर आती। और कला तो था ही बढ़िया। जिला स्तर पर तो चुनचुन पास हो गई और अब जा पहुँची मंडल स्तर पर। और वहाँ जाकर उसे एक बात समझ आई कि भाई! गाँव की कला शहरी कला से अभी भी पीछे है। कहाँ उसका कबाड़ से खड़ा किया गया नमूना, जिसे उसके जिले में तो बड़ी ख्याति मिली थी पर कहाँ ये बड़े-बड़े थर्माकोल के डिज़ाइनर नमूने। फिर भी उसने हिम्मत नहीं हारी। और अपनी वाक्पटुता से जंग जीत ली। और विज्ञान के नाम पर चल रहे इस कलामहोत्सव में उत्तरप्रदेश स्तर पर अपने कला का प्रदर्शन करने का टिकट झटक ही लिया।

अब तीसरा स्तर था। यहाँ से चुनचुन को बहुत सावधान रहना था। बड़े से हॉल में चुनचुन ने अपने नमूने का प्रदर्शन किया। और नमूने की शोभा बढ़ाने के लिए उसमें कुछ चमकीले भी जड़ दिए। यहाँ पर लेकिन न तो उसकी वाक पटुता काम आई न तो उसकी कला कौशल। बल्कि बड़े-बड़े गणमान्य अतिथियों और आँकलन कर्ताओं की छोटी सोच ने ही उसका काम आसान कर दिया। “उनकी एक ही सोच थी कि क्या बनाया गया नमूना हर तरह से विज्ञान के पहले से ही प्रतिपादित सिद्धांतों के अनुरूप हैं?” और चुनचुन का नमूना तो पहले ही कक्षा ग्यारवीं की किताब से उठाया हुआ था। फिर चुनचुन को और कुछ ज्यादा सोचना ही नहीं पड़ा। और उसका नाम वहाँ भी चुन लिया गया।

फूली ख़ुशी से चुनचुन पूआ हुई जा रही थी। विज्ञान के नाम पर कला के कौशल ने उसे बाल वैज्ञानिक की श्रेणी में जो खड़ा कर दिया था। सूबे के मंत्री जी से प्रदेशस्तरीय इस बाल वैज्ञानिक को कभी रूपए मिल रहे थें तो कभी विद्यालय और घर पर पत्रकारों का जमावड़ा लग रहा था। चुनचुन ये सब समझ नहीं पा रही थी कि भला उसने ऐसा क्या कर दिया है जो आस-पड़ोस वाले उसे इस कदर सम्मान दे रहे हैं!

कई बार तो उसे शर्म भी आती थी। पर अब करे तो करे क्या, उम्र छोटी और तमगा इतना हसीन। तभी नवीं का रिजल्ट आया और चुनचुन आसमान से गिरी सीधी झाड़ियों में। बहरहाल वो उन झाड़ियों से बाहर कैसे आई, ये फिर कभी सुनिएगा। अभी तो मुद्दा है कलाजनित विज्ञान का।

थोड़ी बड़ी हुई तो चुनचुन को एक सम्मानित संस्था ने अपने साथ विज्ञान के प्रचार-प्रसार के लिए आमंत्रित किया। चुनचुन को लगा शायद ये वो लोग होंगे जिनसे समाज में विज्ञान जिन्दा है। पर यहाँ तो और भी अलग खेल चल रहा था। बहुतायत गणमान्य सदस्य अपने-अपने अहंकार को बल देने के लिए ऊँचे से ऊँचा कुछ बोल देना चाहते थें ताकि सुबह के अखबार में उनका वक्तव्य उनके नाम के साथ छप सके। कुछ लोग अपनी दीवार पर एक और प्रमाणपत्र टांगने के लिए बस कुछ बोल देना चाहते थें।

बल इस बात पर था कि कैसे विज्ञान को तोड़-मरोर कर सरल भाषा में बदल कर लोगों तक पहुँचा दिया जाए भले ही उसमें विज्ञान की हत्या ही क्यों न हो जाए। और इस प्रक्रिया में सब भूल जाने को तत्पर थें कि जिस प्रकार संस्कृत की एक लिपि है एक अपना व्याकरण है उसका, ठीक उसी प्रकार विज्ञान को समझने का एक अपना तरीका है। संस्था लोगों को विज्ञान की भाषा सीखाने के बजाय विज्ञान को ही दूसरी भाषा में बदलने को तत्पर थी। और इस प्रकार कलासमृध विज्ञान में चित्र जुड़ते गए, सूत्र मिटते गए। दुनिया भौतिकी से पराभौतिकी की यात्रा करती गई और चुनचुन — “घर से जब कोई बाहर जाता है तो दरवाजे पर पानी से भरा कलश क्यों रखते हैं” इसका कारण खोजने में व्यस्त रह गई। और इसे गणमान्य लोगों ने “बाल खोज” की उपाधि से नवाजा।

आज विज्ञान प्रचार-प्रसार भारत में जितने निम्न स्तर पर है वो पहले के सारे आकड़ों को पार कर गया है। और हम व्यस्त हैं और नई चुनचुन खड़े करने में। जो विज्ञानमय कला से बाल वैज्ञानिक बन सके।

कृपया विज्ञान को आम जन तक पहुँचाने के लिए विज्ञान की हत्या करना बंद करें। कोई अब्दुल कलाम, कोई रमण कभी नहीं कहेंगे कि विज्ञान को सरल बनाइये भले ही उस प्रक्रिया में विज्ञान मरता हो। विज्ञान को सरल बनाने के लिए चुनचुन को बाल वैज्ञानिक नहीं विज्ञान के खोजों, शैलियों और वैज्ञानिकों के अविष्कारों को पास से जानने का माहौल बनाइये। यही विज्ञान और देश की सच्ची सेवा होगी। विज्ञान अपने आप में एक भाषा है, एक शैली है। आप उसका अनुवाद तो कर सकते हैं पर उसमें इतनी तो समझदारी रखनी ही पड़ेगी कि कब अनुवाद विज्ञान के सीमाओं से छिटक कर कला ही हो जाने को तैयार खड़ा है। और कब कला सिर्फ विज्ञान की बात कहने का साधन है।

चुनचुन में प्रतिभा थी पर शायद अच्छा होता कि वो बाल वैज्ञानिक के तमगे के साथ नहीं बल्कि एक वैज्ञानिक दृष्टिकोण में जी पाती। और इसके लिए जितनी चुनचुन जिम्मेदार है उससे कहीं ज्यादा जिम्मेदार ये संस्थाएँ भी हैं जो अपने मौलिक लक्ष्य से बहुत दूर छिटक आई हैं।

Author : Anandita

तूफ़ान

कभी कभी सोचती हूँ कि आग की लपटें ऊपर जाने की बजाए सपाट ज़मीं पर पसरने लगती तो क्या होता। क्या होलिका की तरह हमारे सारे भ्रम, हमारी सारी मनोहर कहानियाँ जल कर ख़ाक हो जातीं? क्या प्रह्लाद की तरह हमारी पूर्णता ही बच कर रह जाती? और क्या इस प्रकार धरती और ज्यादा प्रेमपूर्ण हो जाती?

पर ये परिकल्पना तथ्यात्मक तौर पर भी मिथ्या ही है क्योंकि आग की प्रकृति है ऊपर की और उठना। फैलाना उसका स्वाभाव नहीं है। हाँ वो वस्तुएँ उसके फैलाव का माध्यम जरूर बन जाती हैं जो उसके संपर्क में आती हैं पर फिर भी हर फैलती आग के फैलाव में भी ऊर्ध्वगमन का गुण सदा निहित रहता है।

बहरहाल आग का गुण है ईंधन के सहारे जलना और ईंधन के खत्म होते ही शांत हो जाना। और जैसे आग का ईंधन अपने आप में राख हो जाने की सम्भावना का बीज संजोय रखता है ठीक उसी प्रकार हम भी अपने अंतस में बहुत कुछ संजोय हैं। एक होलिका, एक प्रह्लाद, ढेर सारा ईंधन और एक चिंगारी। फ़र्क़ बस इतना है कि हमने इन सब को पक्की ऊँची-ऊँची दीवारों से अलग-अलग कर बाँध बना रखा है।

होलिका की चालाकी भी कम से कम इतना ही विश्वास करती थी कि वो नहीं जलेगी। उसकी चालाकी ने आग को आत्मसात करने के लिए हुँकार तो भरी ही थी। चाहें प्रह्लाद हो चाहे होलिका, एक बात दोनों में ही साझी थी कि दोनों ने ही ‘हाँ’ कहा था। दोनों ही निर्भीक थे। प्रह्लाद की निर्भीकता श्रद्धा जनित थी और होलिका की निर्भीकता स्व-तप जनित। पर हम तो इन दोनों से ही कहीं ज्यादा गिरे हुए हैं। हमारी निर्भीकता भी मौकापरस्त और जोखिम के इकाइयों के ठीक ठीक अनुपात में ही आती है।

न तो हमारा स्वकर्म पर कोई विश्वास है न ही श्रद्धा। और जो अहँकार खुद में भी कुचला-कुचला सा जीता है और समर्पित भाव से भी खौफ खाता है, संसार में उसकी हालत उस पागल की भाँति है जिसे ज्ञान है कि उसकी दिमागी हालत ठीक नहीं पर अपने कर्मों पर फिर भी उसका कोई जोर नहीं। आधा-आधा और कटा-फटा जीवन ही उसकी परिणति बन जाती है।

प्रकृति भी कितनी अजीब है, जतनी जरुरी है उतनी भी विषमयकारी। आग को जलने के लिए जो ऑक्सीजन चाहिए होता है वही ऑक्सीजन हैड्रोजन के कणों को जोड़ कर आग को शांत करने वाला जल बन जाता है। ये शरीर जिस मिट्टी से निर्मित होता है, जिस मिट्टी के इसका भरण पोषण होता है, उसी मिट्टी को अपनी ही कृति को लीलना पड़ जाता है। यूँ तो ये भी कहना ठीक न होगा कि ये मिट्टी शरीर लील जाती है। बल्कि देखा जाए तो अगर ये मिट्टी अपने सीने में हमें सोने के लिए गज भर जमीं न दे तो चेतना विहीन होने पर इसी शरीर को कोई और एक पल को भी स्वीकार न करे।

कितनी अजीब बात है, हम जीवन भर जिनके लिए हाय हाय करते रहते हैं, हम जीवन भर जिनके लिए कभी अपने विचारों का समझौता करते रहते हैं तो कभी अनंत हो जाने की सम्भावना को ठोकर मारते रहते हैं और अंत में अपने अहँकार और स्वजनों के लिए खड़े किए हमारे मौलिक अरमानों और मुक्तिपथ के लाशों से सजे हमारे ही घरौंदों में हमारे लिए इतनी सी भी जगह नहीं होती कि हमारे चेतना शून्य शरीर को किसी अलमारी में ही सही पर रहने की जगह दे सके।

आज जिनके लिए हम हमारी आतंरिक उत्कृष्टता की असीम सम्भावना का खून करने को तैयार हैं, क्या कल वे हमें इसके बदले ज्यादा कुछ नहीं बल्कि सिर्फ अपनी मक्कारियाँ, चालाकियाँ और अपने अन्धकार का दान मुझे देंगे? क्या मेरे प्रेम आमंत्रण का आभार वो अपने पंखों को फैला कर शून्य आकाश में उन्हें ले जाने की हामी के साथ करेंगे? सम्भावना तो ऐसी नहीं ही है फिर भी मुझे पता है। वो अपने आप को ज्यादा देर तक समझा नहीं पाएँगे। ज्यादा समय तक वो मुझे नकार नहीं पाएँगे।

विचारों के उहापोह में खोई मैं भूल ही गई कि सूरज बादलों में जा छिपा है और हवाएँ तेज होने लगी हैं। “लगता है तूफ़ान आने वाला है”, मैंने अपने आप से कहा। यकायक हवाएँ तेज हो गईं और आस पास की झाड़ियों से टकरा कर हवाओं का स्वर रौद्र होने लगा। मैं थोड़ा अकबकाई किन्तु तभी सामने वाले खाई के पार के टीले पर दो तीन मोर दिखें और पास वाली झाड़ी पर फुदकती एक नन्ही सी चिड़िया। मन ने कहा, सब ठीक तो है। कौन यहाँ तुम्हें नुकसान पहुँचाना चाह रहा है। देखो तो प्रकृति में सब इसी खुली घाटियों और टीलों में इतने सारे पशु-पक्षी जो इस तूफ़ान में भी यहीं हैं। कहीं जाना नहीं इन्हें। फिर मुझे कहाँ जाना है? धरती पर ऐसी कौन सी जगह है जहाँ प्रकृति की इच्छा के विपरीत भी मैं बच जाऊँगी।

थोड़ी सी तस्सली हुई। मैं फिर बैठ गई। और बैठे बैठे पर्चे पर लिखे अधूरे वाक्य को पूरा किया। मन की बातें पन्नों पर आ जाएँ तो रेचन हो जाता है। दुःख स्याही के सहारे नशों में भींचने से बच जाता है और विचार मन की दिवारों पर काली पुताई की तरह सूखने के बजाए पन्नों पर पसर कर मन की कैद से आजाद हो जाते हैं।

आप सोच रहे होंगे कि ऐसा क्या लिखा होगा जो आंधी तूफ़ान के बीच भी लिखा जाना इतना जरुरी था। तो सच बताऊँ तो वो सब बस एक बहाना था। जब भी प्रकृति के करीब जाती हूँ शब्द कुछ ख़ास बचते नहीं। मानों सरकंडे की झाड़ियों में उलझ कर कहीं फट से गए हों। जबरन मैं उस दिन उन्हें पकड़ कर वापिस लाने की कोशिश कर रही थी।

बहरहाल कलम का काम अधूरा सा ही रह गया और मैंने अपनी लिखावट भरे पन्ने को मोड़ कर हवा में तैरा दिया। वो पन्ना भी उन्हीं कटीली झाड़ियों में जा उलझा जिनमें थोड़ी देर पहले मेरे ख्याल उलझ कर चोटिल हुए पड़े थें। हवाएँ अब पहले से ज्यादा तेज हो गई थीं। पर अब भी उनकी गति मेरे मन में उठ रहे भावनाओं के उठापटक के आगे गौड़ ही थी। मानों उस बाहरी झंझावात और आतंरिक अस्थिरता की आपस में कोई साँठ-गाँठ हो।

कुछ देर चलने के बाद तूफानों के बीच बिजली की चमक भी आँख मिचौली खेलने लगी। यकायक प्रकृति का नृत्य अंदर के तांडव से टकरा कर उसे ढेर करने लगी और तूफान का शोर मन को संगीत सा जान पड़ने लगा। बारिश की छिटपुट बूँदें धरती के प्यास की तृप्ति का एहसास कराने लगीं। बिजली की कड़क बादलों के मिलन का विषमयकारी सुख जान पड़ने लगा। मेरी चाल कुछ धीमी हो गई। मानो हर तरफ एक संगीत का आयोजन चल रहा हो। मानो किसी का प्रलय उसके कायाकल्प का सृजन कर रही हो। और सहसा मेरी आँखें भी गीली मिट्टी की तरह तर होने लगी। बाहरी बारिश शरीर को, और आतंरिक बरखा मन को सराबोर करने लगी।

ख्यालों ने फिर करवटें ली। मन ने अस्तित्व से सवाल पूछा — “क्यों नहीं है वो इस वक्त मेरे साथ? क्यों वो आपकी इस मनोहारी सृजनात्मक दृश्य का साक्षी नहीं हो सका? क्यों उसने मेरा हाथ पकड़ अस्तित्व के इस महान प्रेममय महोत्सव में चलने से इंकार कर दिया? क्यों मैं उसे उसके भयों के पार के खुले आकाश में न ले जा सकी? क्यों अस्तित्व के इस नृत्य से उसके मन के मयूरों को मुखरित न करा सकी। कितना अच्छा होता कि डरे मन और निडर क़दमों के साथ वो भी इस तूफ़ान का साक्षी होता। पर फिर बिजली की एक चमक के साथ मेरे विचारों की श्रृंखला पर एक आघात हुआ और मैं पुनः वास्तविकता में लौट आई। एकांत व प्रकृति के पास।

बात तब की है जब, हम दोनों एक सोने के पिंजरे में रहते थें। वहाँ सब कुछ ठीक था। पिंजड़ा बहुत बड़ा था। इतना बड़ा कि हमें उड़ने में कोई दिक्कत न थी। मैं और वो दोनों मिल कर खूब काम करते थें। हमें पिंजरे के मालिक ने पिंजरे को साफ़ सुथरा और सजा हुआ रखने का काम दिया था। कभी वो आना-कानी करता तो भी मैं उसे समझा बुझा कर काम पर ध्यान देने के लिए मना लिया करती थी। हम दोनों एक ही पिंजरे में रहते थें। इसकी खबर उसके घरवालों को न थी। अचानक शहर में आग लग गई जिस जगह हम रहते थें वो जगह चारो ओर से आग से घिर गया। उसने अब पिंजरा बदलने का सोचा। और मुझसे कहा, “सुनों, मैं घर जाने को सोच रहा हूँ। यहाँ आग बढ़ रही है।”

मैंने भी उसका उसके परिवार के पिंजरे में जाना ही ठीक समझा क्योंकि आग की लपटें अभी उसके इलाके तक नहीं पहुँची थी। वो सकुशल थोड़ी सी उड़ान में ही अपने पारिवारिक पिंजरे में जा पहुँचा। कुछ समय बाद उसने मुझे बताया कि परिवार के लोग उसकी शादी पास के ही मीतू मैना के साथ देख रहे हैं। मैंने कहा — “पर हमें तो साथ-साथ उड़ान भरना था। आकाश देखना था। पिंजरे में तो हम इसीलिए आए थें कि थोड़ा सामान जुटा लें।” पर उसका जवाब आया — “कहाँ उड़ना है? तू बिना मतलब के ख्यालों में खोई है। बाहर का आकाश है कहाँ? उड़ान से मिलेगा क्या? और फिर माँ-बाप और इस पिंजरे की जिम्मेदारियां भी तो हैं, उसका क्या?”

— “मैं कैसे उनको और इस पिंजरे को यहाँ छोड़ कर तेरे साथ उड़ने निकल जाऊँ? और तू भी तो आज पिंजरे में ही है, कैसे मान लूँ कि तू कभी उड़ेगी ही? न उड़ी तो? तुझे पता भी है उड़ कर जाना कहाँ है? उड़ भी गए तो खाएँगे क्या? पिंजरे में तो कोई न कोई कुछ न कुछ डाल जाता है। बारिश आती है तो हम ऊपर के छत की वजह से सुरक्षित बच जाते हैं। बाहर क्या होगा? कोई प्लान है तेरे पास?

मैं सुनती जाती, सुनती जाती और सोचती इसकी बातें तो सच हैं। पिंजरे में बैठ कर पिंजरे से विद्रोह कैसे हो सकता है। आगे का क्या इसका भी कोई उत्तर न था मेरे पास। क्योंकि पिंजरों के झरोखों से ऊपर दिखता नीला आकाश और उसमें उड़ते पंछियों को देख कर मन में उठा लालच ही इस ख्याली पुलाव की कुल जमा पूँजी थी। हाँ एक और चीज थी वो थें मेरे भोथर हुए पंख जो मेरे पास थें तो पर आज तक उनसे कोई काम न लिया था मैंने। बस दिन रात उनकी सफाई कर के उनके जुएँ मारती रहती थी।

मैंने मायूस होकर अपने तोते से कहा — “तुम ठीक कहते हो। मेरे पास कोई भविष्य की योजना नहीं। ना ही कोई पुख्ता सुबूत है कि मैं एक दिन तुम्हें लेकर इस असीम आकाश में हर गुरुत्वाकर्षण से परे जाकर बस जीभर के उड़ान भरुँगी। तुम जाना चाहते हो तो जाओ।” और वो चला गया।

मन ने फिर अपने आस-पास के अकेलेपन से डर कर सोचा कि क्यों न उसके ही साथ हो लें। मुक्ति का तो पता नहीं कम से कम वो तो नहीं खोएगा जिसके साथ भर से ये भ्रम बना रहता है कि प्रेम जैसा भी कुछ होता है, आजादी भी किसी पक्षी का हक़ हो सकता है। मैं परेशान मन से छुपछुपा के पुनः उसके पास गई। और कहा, प्रेम का तो पता नहीं पर यदि तुम चले गए तो मेरे जीवन से प्रेम के आभास भी मिट जाएगा। और फिर जीना असहनीय हो जाएगा। तुमसे बारम्बार प्रार्थना है मत जाओ यूँ मुझे छोड़ कर।

कुछ देर की चुप्पी के बाद वो बोला — “तुम नहीं रह पाओगी इस पिंजरे में, मेरे माँ-बाप साफ़ सफाई के सख्त ख़िलाफ़ हैं। वो तुम्हारी सफाई देख कर तुम्हें रिजेक्ट कर देंगे। फिर तुम्हें और चोट लगेगी। जो मैं नहीं चाहता। तुम अपने पिंजरे में ही लौट जाओ। वही ठीक है तुम्हारे लिए।” मुझे अपने सुने पर यकीन नहीं हो रहा था।

कल तक जो मेरे ही पिंजरे का पक्षी था, मेरे साथ-साथ सफाई के कामों में हाथ बँटाता था आज वो खुद गन्दगी के पक्ष में खड़ा था। क्योंकि उसके माँ बाप को गन्दगी से सना पिंजड़ा पसंद था — ऐसा उसका कहना था। इत्तेफाक से वापिस जाते वक्त मेरी मुलाकात उसके पिता जी से हो आई। उनसे मैंने पूछा, एक गंदे से पिंजरे में आप पूरी जिंदगी रहने के लिए कैसे मान गए। पहले तो वे कुछ न बोलें फिर मैंने जब थोड़ा और कुरेदा तो उनके बोल फुट पड़ें। उन्होंने भी इसका दोष अपने पिता के सिर मढ़ दिया और अपने रस्ते हो लिए। अब मैंने सोचा उनके पिता के पिता से ही पूछते हैं। उन्होंने भी इत्तेफाक से अपने पिता जी को ही इसका दोषी बताया। मैंने फिर पूछा क्या आपके पास मौका नहीं था उड़ जाने का? उन्होंने हाँ में सिर हिला दिया और कहा — “मौका तो था पर पिंजरे को छोड़ कर जाते भी कहाँ? आकाश जितना बड़ा है उतना ही वीरान भी है उड़ने की तो पर्याप्त जगह है, पर खाते क्या? उड़ना वूडना तो ठीक है पर भूख, नींद, रोग-व्याध भी कोई चीज होती है उनसे कैसे निबटते? उसके लिए जो भी इंतेज़ाम चाहिए वो पिंजरे में तो है ही इसलिए मैंने माँ-बाप की बात सुन ली और उड़ने का विचार छोड़ दिया।” जाते-जाते उन्होंने मुझे सलाह दिया — “बेटा तुम भी इन बेकार के ख्यालों को परे करो और शादी कर के किसी अच्छे से पिंजरे में सेटल हो जाओ।”

मैंने अपना सा मन लिया और वापिस आ गई। कई दिनों तक पिंजरे में बैठी-बैठी सोचती रही, क्यों कोई पक्षी पिंजरे से बाहर जाता होगा, जब ज्यादातर आबादी इस पिंजरे में खुश ही है? क्यों इस पिंजरे में भी एक टीला है जिसको आकाश की तरह सजाया गया है, ताकि जिसको थोड़ा उड़ने का मन करे वो इसी टीले में चक्कर काट कर अपने अरमान पूरे कर ले और फिर पिंजरे और उसके कामों पर ध्यान दे।

कुछ दिनों बाद वो मुझसे वापिस मिलने आया। वास्तव में इस बार वो आया ही जाने के लिए था। उसने कहा — “तू भी कोई अच्छा सा लड़का देख कर सेटल हो जाना। उसके और उसके पिता के बोल में कोई अंतर न जान पड़ा। मैं सोच में पड़ गई कि भला कौन है जिसने हर तोते को एक ही स्क्रिप्ट रटा रखी है! उसके चंद बोलों से मेरे विचार भंग हुए। उसने मुखर होते हुए कहा — “मुझे तो जाना ही पड़ेगा।” मैंने अब आगे उसको रोकने का एक आखिरी जतन किया। असल में मैं हर जतन आखिरी मान कर ही करती हूँ और फिर भी एक उम्मीद बच जाती है कि शायद एक और जतन उसे रुकने के लिए मना ले जाए। पर हर बार की तरह ये जतन भी बेकार गया। फिर मैंने सोचा चलो एक चक्कर लगा ही आते हैं आसमान के। साथ नहीं जा पाएँ कोई बात नहीं अकेले ही सही। शायद कुछ बात बने।

पिंजरे से निकली तो शाम का वक्त था। छिटपुट बारिश हो ही रही थी। चलते चलते छोटी पहाड़ियों के घुँघराले बालों सरीखे झाड़ियों के बीच वाले टीले पर जा टिकी। सोचा उसकी सारी यादें मन के सारे गुबार इन झाड़ियों के हवाले कर दूँ पर शब्दों ने कुछ ज्यादा साथ नहीं दिया। और फिर तूफ़ान आ गया। और एक अफ़सोस दे गया कि काश किसी तरह उसे अपने साथ यहाँ ला पाती। तो उसे बताती कि तुम्हारे दादा, उनके दादा उनके दादा के दादा, तुम्हारे पिता जी और तुम इस उत्सव से कितने अनजान हो। प्रकृति की भयावहता के पीछे उसके हृदय में कितनी सौम्यता निहित है। उसे ये घर दिखती जो आकाश के बिलकुल मध्य में स्थित है। जिसका कोई छत कोई दीवारें नहीं हैं फिर भी जिसके चारो ओर घनी छाँव और असीम सुरक्षा है। वो इतनी ऊँचाई पर है कि नीचे बैठ कर हमारी आखों से ये चूक जाता है।

यहाँ खाने की भी कोई कमी नहीं है, यहाँ सोने के लिए भी स्थान हैं। यहाँ अनगिनत इत्रों की महक और हसीन वादियों का ऐसा अनोखापन है जिसको देख कर मन बारम्बार ऊब कर भी कभी पूरी तरह से ऊब नहीं सकता। मुक्ति का ये आकाश जो तुम्हारे हर पिंजड़ों में सूरज की रौशनी बन कर प्रवेश पाता है और तुम्हें पुचकार कर अपनी ओर बुलाता है। कब से ये तूफ़ान तुम्हारे अंदर के तूफ़ान से एक होकर तुम्हें उसकी पाती बांचने को बेचैन है।

इस वक्त अगर वो मेरे साथ होता तो अपने मन के डरों के बीच तूफ़ान को देख कर शयद समझ पाता की ये झंझावात और कुछ नहीं बल्कि धरती और अम्बर के बीच की दूरी को मिटा देने के लिए एक दूसरे को भेजा एक प्रेमपत्र है जो आकाश में बादलों को मिलता है और बारिश के रूप में अम्बर को धरती के पास लाकर धरती की तड़प को शांत करता है। भला ये तूफ़ान डरा कैसे सकता है धरती को। धरती और आकाश तो कब से मधुर हिलोरे लेते हवाओं के बीच तूफ़ान को अपने अपने सीने में पाल रहे होते हैं। वो एक क्षण जब मौसम अनुकूल होता है तो वो तड़प उन मधुर हवाओं को तूफान का रूप देकर मिलन का पैगाम एक दूसरे को साँझा करते हैं।

पर हम ऐसा नहीं करते। हम प्रेम के सौम्य रूप पर मोहित तो हो जाते हैं, उसके आग से सर्दी में अपनी ठण्ड भी दूर कर लेते हैं। पर जलने से अक्सर डर जाते हैं। क्योंकि मुक्ति सदा ही पहले डराती है फिर लुभाती है। हम डर से गुजरने को तैयार नहीं होते। इसलिए प्रेम से भी वंचित ही रह जाते हैं और दोष हालात, माँ बाप और पिंजरे को देते हैं। ठीक वैसे ही जैसे हमारे माँ बापों ने दिया था।

हमारा वाला प्यार

प्यार,
इकरार,
इनकार,
तकरार,
बस इतना सा फलसफा,
ये दुनियावी एतबार
और उम्मीदों का बाजार।

प्रेम कबीर का अमरपुर था,
प्रेम मीरा की विरह वेदना।
प्रेम कृष्ण की गीता थी,
प्रेम बिरज का रास रहस्य।

पर अब?

मन के गुब्बारे,
समय की भट्टी,
रसायन की पट्टी,
योवन पर चढ़ते उतरते
उद्वेगों की अभिव्यक्ति

साथ जीने मरने की कसमें,

आशाओं का संसार,
उपहारों का भरमार,
आलिंगन का आराम,
हक़ का दारोमदार,
जुदाई का अवकाश।

सब मिलाजुला कर भईया,
ब्याहे जाने का अरमान,
बच्चे का आगाज़,
बाजार ही बाजार,
सामान ही सामान।

मिला तो मालामाल,
ना मिला तो मलाल।

ये रहा,
हमारा वाला प्यार,

सात जन्मों का वादा,
घंटे भर में दरार।
कब समझोगे भाई,
ये सब है बकवास!

प्यार बता इसे प्यार का
न उड़ाओ उपहास।

25 Things You Must Do Before You Turn 25

The maturity of your being will be decided from the challenges you meet in your life. Youth is the time when the mind is open to grasp and adopt different ways of life. So if you really don’t want to waste your life and are trying to give your life some meaningful version of yourself, you must complete these 25 things before you turn 25.

  1. Learn any one mind game
    Mind games like chess sudoku etc can help you groom your personality in a different way. Don’t underestimate the power of these small games
  2. Learn any one outdoor game with perfection
  3. Participate in a Street Play
  4. Learn any one Art Form
  5. Learn to play any one musical instrument
  6. Earn from Part Time Teaching Job
  7. Watch at least 10 documentaries
  8. Learn to cook for your basic needs
  9. Follow a strict timetable atleast for 21 days
  10. ride a bicycle
  11. Spend time with trees and birds
  12. Take care of a pet
  13. Go on a school trip
  14. Spend a week without parents
  15. Make anything to spread awareness on current environmental issues
  16. Learn about our freedom fighters
  17. Make clay house
  18. Read any one life changing text book from the Given options:
    1. Jonathan Livingston Seagull a story by Richard Bach
    2. Book of Myths By Aacharya Prashant
    3. The Revolution By Osho
    4. Meeting Life By J.Krishnamurti
    5. The collected work of Khalil Gibran
    6. Remember any 5 poems which teach you some life lessons
    7. Hindi Poet Dushyant Kumar
  19. Plan a surprise party for your parents
  20. do at least 10-20 small scientific practical from your textbook
  21. Innovate something
  22. Keep writing your thoughts in a notebook.
  23. Know about the struggles and the life of 10 scientists which you read
  24. Help someone
  25. Plant a tree and watch that growing along with you

साँप की आँखें

कहते हैं कि मरते हुए साँप की आखों में नहीं देखना चाहिए। मान्यता ये है कि साँप आपकी तस्वीर अपनी आँखों में कैद कर लेता है। फिर उसका जोड़ा जब तक आपकी जान ना लेले तब-तक आपको ढूँढता रहता है। और इसी मान्यता का ध्यान रखते हुए हमारे उधर साँप को मार कर उसकी आँखे डण्डे से कूँच दी जाती थी। ताकि यदा-कदा यदि उसने मारने वाले की तस्वीर ले ली हो तो उसकी आखें बचे ही ना उस तस्वीर को संजोए रखने के लिए।

पर एक बात बताऊँ? तस्वीर उस साँप की आँखों में नहीं, मारने वाले की आँखों में छप जाती है। एक निर्दोष जीव की जान लेकर उसके छटपटाते शरीर की वेदना जब उसकी आवाज से मुखरित नहीं हो पाती तब वह उन्ही निश्छल आँखों से छलकती हैं; और आप दुनियाँ के किसी भी कोने में चले जाएँ, चाहें आप उस घटना को विस्मृत ही क्यों न घोषित कर दें। पर उचित समय आने पर उस जीव का कष्ट आपको बार-बार बेधता रहेगा। भले ही आप उसकी आवाज को एक बुरा सपना समझ कर दबा दें, पर आपके अंदर का वो साँप जो उस साँप के मौत के वक्त उसको बस देख रहा था वो तिल-तिल कर आपको मारता रहता है।

उस मरे हुए प्राणी का जोड़ा कहीं और नहीं बल्कि मारने वाले के ह्रदय के विशुद्ध जगत में सोया-सोया ये सारा घटना क्रम देख रहा होता है। और उसे याद रह जाती हैं तो बस वो आँखे जिनपर अपने ही प्रेमी के हाथों के लट्ठ के निशान अमिट हो उसके प्राण ले चुके होते हैं।

इस बात को समझने के लिए आपमें प्राणी मात्र के लिए थोड़ी संवेदना का होना आवश्यक है। अन्यथा ये बात आपको बचकानी या उबाऊ लग सकती है। ये मैं आपके विवेक पर छोड़ती हूँ।

जब मैं १६-१७ वर्ष की थी तब घर में एक साँप घुस आया था। साँप से जहाँ पूरा घर डर गया था वहीं वो बिचारा साँप भी इतने सारे लोगों को देख कर डर गया था। चिल्लाचोह सुन कर वो साँप सिलबट्टे के एक दरबे में जा दुबका। माता ने साँप मारने के लिए किसी को आवाज लगाई।

हाँ, ठीक सुना आपने, “साँप मारने के लिए” क्योंकि हमारे उधर साँप को पकड़ने का चलन ही न था। जब साँप गलती से किसी के घर आ जाता तो लोग कहते इसके काल ने इसे यहाँ भेजा है। अब ये तो बस वो काल ही बता सकता है कि ये उसकी इच्छा थी या एक हत्या। पर एक बात तो तय है, यदि उस साँप का भेष धर कर कोई ईश्वर भी आ धमके, तो भैया आप समझ जाइये कि हमारे विवेक के अनुसार तो उस ईश्वर का भी काल ही आ गया है। खैर घर में घुसे उस सर्प पर वापिस चलते हैं।

जब तक वो सिलबट्टे के आड़ में छिपा था तब तक तो मैं कह रही थी कि इसे मारना मत इसे छोड़ दो, जाने दो, भगा दो। पर इतने में वो साँप स्नानगृह के किवाड़ के सड़े हुए फाँक में जा घुसा। बस फिर क्या था! अब तो मेरा सबसे बड़ा डर यही था कि “मैं नहाउंगी कहाँ!”, और ये डर इतना बड़ा था कि अब तो साँप को जिन्दा चाहे मुर्दा बस निकल दो। यही मेरा उद्देश्य बन गया।

जो साँप मारने आया था, उसने सलाह दी कि इसपर मिटटी का तेल (केरोसिन) छिड़क दो तुरंत बाहर आ जाएगा। मैंने पहले थोड़ा सा तेल उस किवाड़ के खोह में डाला पर जब प्राणों का सवाल हो तो शरीर की जलन क्या कीमत रखती है? शायद कुछ ऐसी ही भावना चल रही होगी उस साँप के भी मन में। वो इस वार को सह गया। वो बाहर आ ही नहीं रहा था।

मैं दुबारा मिटटी का तेल लेने रसोई की ओर दौड़ी। पर माँ ने पहले तो थोड़ा दे दिया, फिर बाद में महीने के खपत को ध्यान में रख कर मना कर दिया। पर फिर भी जिद्द कर के गिलास भर तेल ले ही आई। अबकी सारा तेल उस बिल में उड़ेल दिया।

एक सीमा के बाद शरीर की जलन का दुःख मन पर कुछ यूँ छाता है कि व्यक्ति स्वयं ही अपने मरने की प्रार्थना करने लगता है। ये बात तो हम सभी ने देखी और बहुतों ने इसे महसूस भी किया ही होगा। उस साँप की दशा भी अब कुछ ऐसी ही हो गई थी। फिर जैसा कि हमारी मान्यताओं का कहना है कि उसका काल यहाँ ले आया उसे। सो वो बिचारा मारा गया।

पर एक बात कहूं? वो अभी भी मरा नहीं है। उसकी वो निर्दोष आँखे आज भी वेदना से भर कर मुझे घूरती हैं और पूछती हैं —”क्या तुम्हारी कल्पना का भय मुझे निष्प्राण करने के लिए काफी था?” और मैं हतप्रभ होकर अपने इन हाथों को निहारती हुई संवेदना शून्य सी हो, बस यही कह पाती हूँ कि — “हो सके तो मुझे माफ़ कर दो। नहीं, हो सके नहीं, तुम मुझपर कृपा करो और मुझे माफ़ कर दो। मुझे आभास है जब मिट्टी का तेल तुम्हारे कोमल बदन पर गिरा होगा तो उसकी उष्णता ने तुम्हें छलनी कर दिया होगा।”

मैंने न जाने कौन से कुमति का शिकार हो ये पाप कृत्य सुनिश्चित किया। मुझे आभास है जब लाठी का प्रहार तुमपर हुआ होगा तो तुममे कैसी वेदना के तार उठे होंगे। मुझे हो सके तो माफ़ करना।

आज उस पुरानी घटना ने इस मान्यता का सच उजागर कर दिया कि क्यों लोग कहते हैं कि मरते हुए साँप की आखों में मत देखना। सत्य ही है। अगर सच में उन आँखों में गहराई से देख पाएँ, तो उस जीव से एक ऐसा नाता दिखेगा कि फिर मैं और वो साँप अलग होकर भी अलग दिख न पाएंगे। और ऐसे में तो बस प्रेम हो सकता है। फिर वार करना कठिन हो जाएगा। फिर चाहें प्राण ही जाते हों पर हाथ कैसे उठ जाएंगे अपने ही तत्व को मारने के लिए?

जीवन के उस पड़ाव पर मैं मात्र एक शरीर भर थी जिसके लिए उसके भय ही उसके विवेक का सञ्चालन कर रहे थें। और जीवन के इस पड़ाव पर यह चेतना उस शरीर से संलिप्त होकर उसके पापों से उत्कंठित है।

मुझे नहीं पता इस पूरे घटना क्रम का प्रतिपादन पुनः क्यों हो रहा है। पर इस घटना से एक बात मुझे सीख के तौर पर समझ आई है। वो इस प्रकार है:

जब मनुष्य के विवेक पर डर, लालच और अहंकार हावी हो जाते है, तब वह न सिर्फ अपनी मानवता भूल जाता है बल्कि वह पशुता के स्तर से भी नीचे गिर जाता है। प्रकृति में कोई भी जिव एक दूसरे पर सिर्फ अपने भय से उन्मत हो आक्रमण नहीं कर देते। बल्कि युद्ध हमेशा तब होता है जब बात आघात(भोजन प्राप्ति के लिए) या प्राण रक्षा की हो। पर यहाँ मैंने एक जीव की जान बस इस शंका पर ले ली कि वो मुझे हानि पहुँचा देगा। जबकि वो तो स्वयं ही डरा हुआ था।

और जब विवेक पर संवेदना और समता का प्रभाव होता है व जब विवेक चेतना इसे संचालित होतीहै, तब आपको ये पुण्य प्राप्त होता है कि आप सड़क के कुत्ते, इस मरे हुए साँप और यहाँ तक कि चींटियों से भी प्रेम और जीवन का वो मर्म सीख पाते हैं जो आपको लाख कष्टों से प्राप्त अपनी संतान से भी सीखने को नहीं मिल पाता।

प्रेम, दया, करुणा अगर ये मेरे लिए मेरे प्राणों के बाद आते हैं तो निश्चित है कि मेरा विवेक भय से संचालित होता है। और इसमें किसी प्रकार के उच्च स्तरीय चेतना की सम्भावन ह्रदय के आकाश के निर्वात में आँखे मूंदे बस सो रही है। जागृति अभी दूर है। जागृति की अनुकम्पा में अभी मेरे साधना के पुष्पों का समर्पण शेष है।